Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

समाचार एवं भर्ती

निविदाएं

निर्माण परियोजनाएं

वाणिज्यिक,भाड़ा जानकारी एवं सार्वजनिक सूचना

रेल कर्मियों के लिए

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
हिंदी पुरस्कार/पुरस्कार योजनाएं

दक्षिण पश्चिम रेलवे-हुब्बल्लि मंडल

सरकारी काम-काज में राजभाषा हिंदी के प्रयोग-प्रसार को बढावा देने के उद्देश्य से लागू विभिन्न प्रोत्साहन/पुरस्कार योजनाएं

रेल मंत्रालयरेलवे बोर्ड की योजनाएं:

क्र. सं.

पुरस्कार

विवरण

पुरस्कार की संख्या

1.

कमलापति त्रिपाठी राजभाषा स्वर्ण पदक

हिंदी के प्रयोग-प्रसार में प्रशंसनीय योगदान के लिए रेलों/ उत्पादन

कारखानों के वरिष्ठ प्रशासनिक ग्रेड(SAGसे ऊपर के अधिकारियों के लिएः

स्वर्ण पदक + 10 हज़ार रुपए तथा प्रशस्ति पत्र

1

2.

रेल मंत्री राजभाषा रजत पदक

हिंदी के प्रयोग-प्रसार में प्रशंसनीय योगदान के लिए रेलों/ उत्पादन

कारखानों के वरिष्ठ प्रशासनिक ग्रेड(SAG) के अधिकारियों के लिए:

 रजत पदक. + 08 हज़ार रुपए तथा प्रशस्ति पत्र

30

3.

रेल मंत्री राजभाषा शील्ड/ट्रॉफी तथा अन्य वैजयंति

3.1

'' एवं '' क्षेत्र में स्थित रेलों के लिए

प्रथम पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा शील्ड

द्वितीय पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा ट्रॉफी

1

1

3.2

'क्षेत्र में स्थित रेलों के लिए

प्रथम पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा शील्ड

द्वितीय पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा ट्रॉफी

1

1

3.3

'' एवं '' क्षेत्र में स्थित आदर्श मंडलों के लिए

आचार्य महावीर प्रसाद चल वैजयंती

1

3.4

'क्षेत्र में स्थित आदर्श मंडलों के लिए

आचार्य रघुवीर चल वैजयंती

1

3.5

'' एवं '' क्षेत्र में स्थित आदर्श स्टेशन/कार्यालय/वर्कशॉप के लिए

रेल मंत्री राजभाषा शील्ड + 7000नकद

1

3.6

'क्षेत्र में स्थित आदर्श स्टेशन/वर्कशॉप के लिए

रेल मंत्री राजभाषा शील्ड + 7000नकद

1

3.7

'' एवं '' क्षेत्र में स्थित उत्पादन कारखानों के लिए

प्रथम पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा शील्ड

द्वितीय पुरस्कार-शिव सागर मिश्र चल वैजयंती शील्ड + 7000नकद

1

3.8

'क्षेत्र में स्थित उत्पादन कारखानों के लिए

प्रथम पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा शील्ड

द्वितीय पुरस्कार-रेल मंत्री राजभाषा ट्रॉफी शील्ड + 7000नकद

1

4.

लाल बहादुर शास्त्री तकनीकी मौलिक लेखन पुरस्कार योजना

रेल कर्मियों की साहित्यिक प्रतिभा को बढ़ावा देने तथा तकनीकी रेल विषयों पर आधिकाधिक पुस्तकें उपलब्ध हो सके इस उद्देश्य से यह योजना लागू है. इस योजना में रेलों से इतर व्यक्ति भी शामिल हो सकते हैं.

प्रथम –   20,000/-

द्वितीय – 10,000/-

तृतीय -     7000/-

1

1

1

5.

मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार योजना

(काव्य संग्रह के लिए)

रेल कर्मियों की साहित्यिक प्रतिभा एवं अभिरुचि को बढ़ाव देने के उद्देश्य से यह योजना लागू की गई है.

प्रथम –   20,000/-

द्वितीय – 10,000/-

तृतीय -     7000/-

1

1

1

6.

प्रेमचंद पुरस्कार योजना

(कहानी संग्रह/उपन्यास के लिए)

रेल कर्मियों की साहित्यिक प्रतिभा एवं अभिरुचि को बढ़ाव देने के उद्देश्य से यह योजना लागू की गई है.

प्रथम –   20,000/-

द्वितीय – 10,000/-

तृतीय -     7000/-

1

1

1

7.

रेल मंत्री राजभाषा व्यक्तिगत नकद पुरस्कार योजना

सरकारी काम-काज में हिंदी का अधिकाधिक व प्रशंसनीय प्रयोग करने के लिए कनिष्ठ प्रशासनिक ग्रेड(JAG) तक के अधिकारी तथा अराजपत्रित वर्ग के लिए (कुलः 134, दपरे के लिए 05 कोटा निर्धारित है)

3,000/-

8.

अखिल रेल हिंदी वाक्, निबंध एवं टिप्पणी एवं प्रारूप लेखन प्रतियोगिता

श्रेणी –II  के अधिकारियों तथा अराजपत्रित वर्ग के लिए जिसमें हिंदी भाषी एवं हिंदीतर भाषी सभी कर्मचारी शामिल हो सकते हैं. सर्वप्रथम क्षेत्रीय स्तर पर आयोजन तत्पश्चात् अखिल रेल स्तर पर आयोजन. क्षेत्रीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगिता में चुने हुए प्रथम तीन प्रतियोगिताओं को शामिल किया जाता है.

क्षेत्रीय स्तर पर

प्रथम        3,000/-रु.

द्वितीय      2,500/-रु.

तृतीय          2000/-रु.

सांत्वना (3)  1500/-रु.

कुल 6 पुरस्कार

अखिल स्तर पर

      5,000/-रु.

      4,000/-रु.

      3000/-रु.

(5)  2500/-रु.

कुल 8 पुरस्कार

9..

अखिल रेल हिंदी नाट्योत्सव

क्षेत्रीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगिता में चुने गए प्रथम नाटक को शामिल किया जाता है.

प्रथम पुरस्कार (1)      रनिंग ट्रॉफी + 5,000/-रु. नकद पुरस्कार + प्रमाण-पत्र

द्वितीय पुरस्कार (1)     रनिंग ट्रॉफी + 4,000/-रु. नकद पुरस्कार + प्रमाण-पत्र

तृतीय पुरस्कार  (1)     रनिंग ट्रॉफी + 3,000/-रु. नकद पुरस्कार + प्रमाण-पत्र

प्रेरणा पुरस्कार (5)  2000/-रु.+ स्मृति चिह्न + प्रमाण-पत्र

विभिन्न विधाओं में चुने गए सर्वश्रेष्ठ 15 कलाकारों को पुरस्कृत किया जाता हैः नकद पुरस्कार 1000/-रु. प्रत्येक को + स्मृति चिह्न. + प्रमाण-पत्र

8

15

10.

हिंदी के सर्वाधिक प्रयोग करने वाले विभागों के लिए सामूहिक पुरस्कार योजना

(क) हिंदी का सर्वाधिक प्रयोग करने वाले विभाग के लिएः

      प्रथम पुरस्कारः 12,000/-रु. : मुख्यालय में हिंदी का सर्वाधिक प्रयोग करने वाले विभाग के कुल 6 

                                                           कर्मचारियों को प्रति कर्मचारी 1,500/-रु. प्रति कर्मचारी की दर से.

      द्वितीय पुरस्कारः  8,000/-रु. संबंधित रेलवे के मंडलों में से हिंदी का सर्वाधिक प्रयोग करने वाली 

                                                    शाखा के कुल 5 कर्मचारियों को 1,200/-रु. प्रति कर्मचारी की दर से.

      तृतीय पुरस्कारः     6,000/-रु. संबंधित रेलवे के कारखानों (वर्कशॉप) में राजभाषा हिंदी का

                                                  सर्वाधिक प्रयोग करने वाले कारखाने (वर्कशॉप) के कुल  5   

                                                   कर्मचारियों को 800/रु. प्रति कर्मचारी की दर से.

(ख) हिंदी का सर्वाधिक प्रयोग करने वाले रेलवे बोर्ड के निदेशालय के लिए

      प्रथम पुरस्कार  आचार्य किशोरीदास चल वैजयंती + 12000/-रु. नकद

      द्वितीय पुरस्कार  रेल मंत्री रा.भा.शील्ड + 8000/-रु. नकद

      तृतीय पुरस्कार  - रेल मंत्री रा.भा. शील्ड + 6000/-रु. नकद

1

1

1

11.

रेल यात्रा वृत्तांत पुरस्कार योजना

इस योजना में सभी भारतीय नागरिक भाग ले सकते हैं. वृत्तांत कम से कम 3000 शब्दों का हो.

प्रथम पुरस्कार          10,000/-रु.

द्वितीय पुरस्कार        8,000/-रु.

तृतीय पुरस्कार         6,000/-रु.

प्रेरणा पुरस्कार     4,000/-रु.

1

1

1

5

12.

रेल राजभाषा पत्रिका में प्रकाशित श्रेष्ठ रचनाओं को पुरस्कृत करने की योजना

सर्वश्रेष्ठ लेख             1000/-

सर्वश्रेष्ठ कहानी           700/-रु.

सर्वश्रेष्ठ कविता/गजल   500/-रु.

1

1

1

13

रेल मंत्री हिंदी निबंध प्रतियोगिता

राजपत्रित एव अराजपत्रित दोनों वर्गों के अधिकारी/कर्मचारी  

प्रथम पुरस्कार          6,000/-रु. + प्रमाण-पत्र  (राजपत्रित तथा अराजपत्रित के लिए एक-एक ) 

द्वितीय पुरस्कार       4,000/-रु. + प्रमाण-पत्र  (राजपत्रित तथा अराजपत्रित के लिए एक-एक ) 

1

1

राजभाषा विभागगृह मंत्रालय की योजना

14.

राजभाषा गौरव पुरस्कार योजनाः

(1) भारत के नागरिकों को हिंदी में ज्ञान-विज्ञान मौलिक पुस्तक लेखन के लिएः

प्रथम पुरस्कार          2 लाख/-रु.

द्वितीय पुरस्कार      1.25 लाख/-रु.

तृतीय पुरस्कार         75 हज़ार/-रु.

1

1

1

(2) सरकार के कर्मियों (सेवानिवृत्त सहित) को हिंदी में मौलिक पुस्तक लेखन के लिएः

प्रथम पुरस्कार          1 लाख/-रु.

द्वितीय पुरस्कार      75 हज़ार /-रु.

तृतीय पुरस्कार         60 हज़ार /-रु.

1

1

1

(3) सरकार के कर्मियों (सेवनिवृत्त सहित) को हिंदी में उत्कृष्ट लेख के लिएः

हिंदी भाषी

हिंदीतर भाषी

1

1

1

प्रथम पुरस्कार          20,000/-रु.

द्वितीय पुरस्कार      18,000/-रु.

तृतीय पुरस्कार         15,000/-रु.

प्रथम पुरस्कार          25,000/-रु.

द्वितीय पुरस्कार      22,000/-रु.

तृतीय पुरस्कार         20,000/-रु.

15.

हिंदी डिक्टेशन पुरस्कार योजना

हिंदी में अधिकाधिक डिक्टेशन देने के लिए अधिकारियों को प्रोत्साहित करने के लिएः

हिंदी भाषी अधिकारियों द्वारा वर्ष भर में कम से कम 20,000 शब्दों का डिक्टेशन.

हिंदीतर भाषी अधिकारियों द्वारा वर्ष भर में कम से कम 10,00 शब्दों का डिक्टेशन.

जिन अधिकारियों का घोषित निवास स्थान '' एवं '' क्षेत्र में हो.       5000 /-रु.

जिन अधिकारियों का घोषित निवास स्थान ''  क्षेत्र में हो.                 5000/-रु.

1

1

16.

सरकारी कामकाज (टिप्पण/प्रारूप लेखन) मूल रूप से हिंदी में करने के लिए पुरस्करा योजना. इस योजना में क तथा ख क्षेत्र में वर्ष में कम से कम 20,000 शब्द तथा ग क्षेत्र में कम से कम 10,000 शब्द मूल रूप से टिप्पण और प्रारूप आदि के रूप में लिखने पर.

केंद्रीय सरकार के प्रत्येक मंत्रालय/विभाग/संबद्ध/अधीनस्थ कार्यालय/स्वायत्त निकाय आदि के लिए एक समान रूप से लागू होगीः

दस हजार शब्द योजना पुरस्कारः                         

प्रथम पुरस्कार           

5000/-रु.

2

द्वितीय पुरस्कार        

3000/-रु. `

3

तृतीय पुरस्कार          

2000/-रु.

5

 


2

3

5

17.                           

हिंदी भाषा, टंकण व आशुलिपि परीक्षा उत्तीर्ण करनेव शर्तें पूरी करने पर निम्न पुरस्कार प्राप्त होंगेः

अंकों के आधार पर नकद पुरस्कार

निजी प्रयत्नों से उत्तीर्ण करने पर

हिंदी आशुलिपि पास करने पर

हिंदी टंकण पास करने पर

निजी प्रयत्नों से पास करने पर

प्रबोध

प्रवीण

प्राज्ञ

प्रबोध

प्रवीण

प्राज्ञ

नकद पुरस्कार

नकद पुरस्कार

आशु

हिंदी टंकण

55-59%

400/-

600/-

800/-

1600/-

1500/-

2400/-

88-91%

  800/-रु.

90-94%

  800/-रु.

3000/-रु.

1600

60-69%

800/-

1200/-

1600/-

92-94%

  1600/-रु.

95-96%

  1600/-रु.

70 से ऊपर

1600/-

1800/-

2400/-

95 से ऊपर

2400/-रु.

96 से ऊपर

2400/-रु.

अन्य शर्तें पूरी करने पर 12 माह के लिए वेतन वृद्धि के बराबर वैयक्तिक वेतन मिलेगा।

आवश्यक शर्तें पूरी करने पर 12 माह के लिए वेतन वृद्धि के बराबर वैयक्तिक वेतन. जिन आशुलिपिकों की मातृभाषा हिंदी नहीं है, उनके लिए 12 माह के लिए 2 वेतन वृद्धि और अगले 12 माह के लिए एक वेतन वृद्धि के बराबर वैयक्तिक वेतन प्राप्त होगा।

18.

टाइपिस्टों/आशुलिपिकों की पुरस्कार भत्ता योजना. यह योजना में वह टाइपिस्ट/आशुलिपिक भाग लेने के पात्र हैं जो अपने अंग्रेजी काम के अलावा 5 पत्र/ टिप्पणियां प्रतिदिन अथवा 300 पत्र/ प्रारूप/ टिप्पणियां प्रति तिमाही हिंदी में टाइप करते हैं.


आशुलिपिक   


240/-रु. प्रति माह.


टाइपिस्ट                       

160/- रु. प्रति माह

19.

अतिरिक्त कार्य भत्ता (मानदेय)

प्रधान कार्यालय में

मंडल में

कारखाने/निर्माण संगठन में

मुख्य राजभाषा अधिकारी

अपर मुख्य राजभाषा अधिकारी

उप मुख्य राजभाषा अधिकारी

(2% मूल वेतन)

(2% मूल वेतन)

(2% मूल वेतन)

20.

हिंदी पुस्तकालय के पुस्तकाध्यक्ष का मानदेयः     1000/-रु. प्रति माह है.

21.

'राभाकास' के लिए नामित लिपिक का मानदेयः      600/-रु. प्रति माह है.


पुनश्चःचूंकि प्रोत्साहन/पुरस्कार योजनाएं संबंधी पुरस्कार राशि व संख्या  के साथ-साथ योजना के दिशानिदेश भी बदलते रहते हैं, इसलिए अद्यतन जानकारी के लिए कृपया रेलवे बोर्ड के राजभाषा निदेशालय एवं गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग की वेबसाइटें देखने का कष्ट करें।




Source : दक्षिण पश्चिम रेलवे CMS Team Last Reviewed : 17-11-2022  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.