Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

समाचार एवं भर्ती

निविदाएं

निर्माण परियोजनाएं

वाणिज्यिक,भाड़ा जानकारी एवं सार्वजनिक सूचना

रेल कर्मियों के लिए

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
हुबली कारखाना

Brief History/

 

Carriage Repair Workshops, Hubli was established in 1885 under Southern Maharatta Railways for maintenance of Meter Gauge stock. In 1919, the workshop was brought under the control of Madras and Southern Maharatta Railways. Post independence, after the reorganization of Railways, Hubli workshops was brought under the control of Southern Railways in 1951. The workshop came under South Central Railway in Oct’1966 and under South Western Railways from April 2003.

 

The Gauge conversion from Meter Gauge to Broad Gauge was completed at a cost of Rs. 18 Crores during 1995-96. Hubli Workshops is now involved in POH/IOH/Refurbishment of BG Coaches, manufacture of bogie frames, BVZI Wagons and supplying wheel sets to C&W depots and Diesel Sheds.

 

 

Present activities of the workshop (Including RSP work)

 

The main activities of the workshop at the moment are as follows:

 

·Periodic Overhauling of all types of BG Coaches.

·Refurbishment of coaches.

·Intermediate Overhauling (IOH) of Bogies.

·Manufacturing of Bogie Frames of various types - ICF, Air Spring Suspension (ASR) and Hybrid.

·Manufacturing of other bogie components like Bolsters and LS Beams.

·Fabrication of BVZI Wagons.

संक्षिप्त इतिहास

सन् 1885 में दक्षिण मराठा रेलवे के अंतर्गत मीटर गेज के डिब्‍बों के अनुरक्षण हेतु हुबलीमें सवारीडिब्बा मरम्मत कारखाना की स्थापना की गई। सन् 1919 में कारखाने को मद्रास और दक्षिण मराठा रेलवे के नियंत्रण में लाया गया।स्वतंत्रता के पश्‍चात, रेलों के पुनर्गठन के समय, सन् 1951 में हुबली कारखाने को दक्षिण रेलवे के नियंत्रण में लाया गया। अक्तूबर 1966 में कारखाने को दक्षिण मध्य रेलवे के नियंत्रण में और अप्रैल 2003 से दक्षिण पश्चिम रेलवे के अंतर्गत शामिल किया गया।

वर्ष 1995-96 के दौरान मीटर लाइन से बडी लाइन में आमान परिवर्तन का कार्य 18 करोड रुपयों की लागत से संपन्‍न किया गया।हुबली कारखाने में अब बड़ी लाइन सवारीडिब्बों की आवधिक मरम्मत / सवारीडिब्बों की मध्यवर्तीय मरम्मत / नवीनीकरण कार्य, बोगी फ्रेमों का, बीवीझेडआई मालडिब्बों का विनिर्माण और सवारी व मालडिब्बा डिपो और डीज़ल शेड के लिए पहिया सेटों की आपूर्ति का कार्य पूरी तत्‍परता से किया जा रहा है।

हुबली कारखाने की वर्तमान गतिविधियाँ (आर एस पी कार्य सहित)

कारखाने की वर्तमान प्रमुख गतिविधियाँ निम्नप्रकार हैं :-

-सभी प्रकार के बड़ी लाइन सवारीडिब्बों की आवधिक मरम्मत (पीओएच)

-सवारीडिब्बों का नवीनीकरण।

-सवारीडिब्बों की मध्यवर्तीय मरम्मत (आई ओ एच)

-विभिन्न प्रकार के बोगी फ्रेमों का विनिर्माण- जैसे, आई सी एफ, एयर स्प्रिंग सस्पेंशन (ए एस आर) और हाईब्रिड।

-अन्य बोगी पुर्जों जैसे बोल्स्टर और एल एस बीमों का विनिर्माण।

-बी वी झेड आई मालडिब्बों का निर्माण।




Source : दक्षिण पश्चिम रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 04-09-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.