Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

समाचार एवं भर्ती

निविदाएं

निर्माण परियोजनाएं

वाणिज्यिक,भाड़ा जानकारी एवं सार्वजनिक सूचना

रेल कर्मियों के लिए

हमसे संपर्क करें

दक्षिण भारत के राज्यों में समान शब्दावली
अभिव्‍यक्ति पत्रिका
संगठनात्‍मक ढांचा
प्रमुख कार्य
हमसे संपर्क करें
लेखा विभाग
परिचालन विभाग
सिविल इंजिनियरिंग विभाग
वाणिज्य विभाग
विद्युत विभाग
यांत्रिक शाखा
चिकित्सा विभाग
कार्मिक विभाग
संरक्षा विभाग
सुरक्षा विभाग
सि. व दूरसंचार विभाग
भंडार विभाग
सतर्कता विभाग
General
Public Relations


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
राजभाषा विभाग

राजभाषा कार्यान्वयन संबंधी प्रगामी प्रयोग-प्रसार की स्थिति

1.संगठनात्मक स्थिति :

 

दक्षिण पश्चिम रेलवे का राजभाषा विभाग मुख्य राजभाषा अधिकारी के प्रशासनिक नियंत्रण में कार्य करता है। मुख्य राजभाषा अधिकारी का नामांकन महाप्रबंधक की सिफारिश से रेलवे बोर्ड द्वारा किया जाता है। फिलहाल श्री एम.ए.वी. रामानुजन, मुख्य विद्युत सेवा इंजीनियर, दपरे, हुब्बल्लि इस रेलवे के मुख्य राजभाषा अधिकारी हैं। राजभाषा के कार्य की देखरेख मंडलों में अपर मंडल रेल प्रबंधकव अपर मुख्य राजभाषा अधिकारी तथा कारखानों/निर्माण संगठन में उप मुख्य राजभाषा अधिकारी द्वारा की जाती है। प्रधान कार्यालय, मंडलों, कारखानों एवं निर्माण संगठन में मुख्य राजभाषा अधिकारी/अपर मुख्य राजभाषा अधिकारी/उप मुख्य राजभाषा अधिकारी की सहायता के लिए राजभाषा से संबंधित निम्नलिखित पूर्णकालिक पद विद्यामान हैं :-

क्रम सं.

पदनाम

स्वीकृत

रिक्त

1

राजभाषा अधिकारी

04

01

2

वरिष्ठ अनुवादक

10

01

3

कनिष्ठ अनुवादक

12

11

4

वरिष्ठ/कनिष्ठ आशुलिपिक

02

01

5

लिपिक व टंकक

05

03

2.कार्य :-

राजभाषा विभाग के प्रमुख कार्य निम्नलिखित हैं:-

क)अनुवाद : इसके अंतर्गत धारा 3(3) के अंतर्गत आनेवाले दस्तावेजों, प्रलेखों एवं सामग्रियों को हिंदी-अंग्रेजी में जारी करना शामिल है।

ख)प्रशिक्षण : इसके अंतर्गत केन्द्र सरकार के कर्मचारियों के लिए जिनको हिंदी में प्रवीणता अथवा कार्यसाधक ज्ञान प्राप्त नहीं हैं, हिंदी प्रशिक्षण की व्यवस्था करके उन्हें राजभाषा में काम करने के लिए सक्षम बनाना है।

ग)कार्यान्वयन : इसके अंतर्गत अधिकारियों / कर्मचारियों को राजभाषा में कार्य करने के लिए प्रोत्साहन देना और हिंदी का प्रचार-प्रसार करना एवं उसकी अभिवृद्धि सुनिश्चित करना शामिल है।

3.अनुवाद :

3.1धारा 3(3) का अनुपालन:- धारा 3(3) के अंतर्गत आने वाले सभी प्रलेखों को हिंदी में अनुदित कर अनिवार्य रूप से द्विभाषी रूप में जारी किया गया है ।

3.2अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेजों का अनुवाद कार्य: - वर्ष 2019-20 के दौरान संरक्षा विभाग के मासिक संरक्षा बुलेटिन, संरक्षा संदेश तथा संरक्षा पोस्टर आदि हिंदी-अंग्रेजी द्विभाषी में बनाकर उपलब्ध कराया गया। इसके अलावा समय-समय पर विभिन्न विभागीय प्रश्न-पत्रों को हिंदी-अंग्रेजी में बनाकर उपलब्ध कराया गया। इस वर्ष के दौरान आयोजित सभी संसदीय समिति की बैठकों की कार्यसूची, विवरणिका आदि तथा विभागीय समारोहों के निमंत्रण-पत्र, बैनर, प्रचारपत्र आदि को नियमानुसार द्विभाषी / त्रिभाषी रूप में जारी किया गया है ।

4.प्रशिक्षण:- राजभाषा हिंदी में अपना दैनिक कामकाज करने हेतु अधिकारियों / कर्मचारियों को सक्षम बनाने के लिए राजभाषा विभाग द्वारा इस अवधि के दौरान निम्नलिखित प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

4.

4.1 हिंदी भाषा, हिंदी टंकण व आशुलिपि प्रशिक्षण : -दक्षिण पश्चिम रेलवे के प्रधान कार्यालय में कार्यरत अधिकारियों / कर्मचारियों के हिंदी भाषा प्रशिक्षण के लिए गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग के सहयोग से प्रधान कार्यालय, हुब्बल्लि में एक पूर्णकालिक हिंदी भाषा प्रशिक्षण केंद्र खोला गया है। इसके अलावा मंडलों व कारखानों में प्रबोध, प्रवीण व प्राज्ञ स्तर की कक्षाएं नियमित रूप से चलाई जाती हैं। साथ ही साथ हिंदी टंकण-आशुलिपि प्रशिक्षण हेतु एक अंशकालिक केंद्र की स्थापना की गई है जिसके फलस्वरुप दक्षिण पश्चिम रेलवे में कुल 19,914कर्मचारी हिंदी का कार्यसाधक ज्ञान हासिल कर लिया है और 514टंकक 57 आशुलिपिक क्रमश:हिंदी टंकण और आशुलिपि कार्य करने में सक्षम हो गए हैं।

4.2 वार्तालाप प्रशिक्षण:- जनसंपर्क में आनेवाले कर्मचारियों को नियमित तौर पर हिंदी वार्तालाप प्रशिक्षण दिया जाता है।

4.3हिंदी कुंजीयन प्रशिक्षण:- कम्प्यूटर पर हिंदी का अनुप्रयोग बढ़ाने के उद्देश्य से नियमित तौरपर हिंदी कुंजीयन प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। वर्ष 2019-20 में 240 कर्मचारियों को हिंदी कुंजीयन में प्रशिक्षण दिया गया है।

5.कार्यान्वयन :-

5.1राजभाषा कार्यान्वयन समितियों की बैठकों का आयोजन:- राजभाषा नीति के कार्यान्वयन में राजभाषा कार्यान्वयन समितियों (राभाकास) की अहम भूमिका होती है । इस प्रकार की समितियों की तिमाही बैठकों में राजभाषा के प्रयोग-प्रसार में आ रही बाधाओं व इससे संबंधित समस्याओं पर विचार-विमर्श किया जाता है तथा कार्यान्वयन संबंधी वार्षिक लक्ष्य प्राप्त करने की दिशा में सामूहिक प्रयास किया जाता है ।

कार्यालय कार्यालय

कुल राभाकास

प्रधान कार्यालय

01

हुब्बल्लि मंडल

10

बेंगलुरु मंडल

8

मैसूरु मंडल

13

हुब्बल्लि कारखाना

01

मैसूरु कारखाना

01

निर्माण संगठन

01

5.2हिंदी में मूल पत्राचार :-इस अवधि के दौरान, हिंदी में मूल पत्राचार की स्थिति 68% है, अत: गृह मंत्रालय द्वारा निर्धारित 55% का लक्ष्य हासिल कर लिया गया है ।

5.3हिंदी में प्राप्त पत्रों के उत्तर:-हिंदी में प्राप्त पत्रों के उत्तर शत-प्रतिशत हिंदी में ही दिए जा रहे हैं।

5.4फॉर्म, आवेदन आदि का द्विभाषीकरण:- दक्षिण पश्चिम रेलवे के अधिकतर अधिकारी अपना दौरा कार्यक्रम, यात्रा भत्ता, बिल, पास/पीटीओ, आवेदन, छु्ट्टी नकदीकरण, आवेदन व छुट्टी आवेदन आदि द्विभाषी प्रपत्र का प्रयोग करते हुए हिंदी में भी प्रस्तुत करते हैं ।

5.5 हिंदी पुस्तकालय एवं वाचनालय:-अधिकारियों / कर्मचारियों में हिंदी के प्रति अभिरुचि उत्पन्न करने की दृष्टि से प्रधान कार्यालय / मंडलों / कारखानों पर कुल 26हिंदी पुस्तकालय एवं वाचनालय हैं, जिनमें विभिन्न विधाओं की लगभग 36285 पुस्तकें उपलब्ध हैं, इन सभी पुस्तकालयों / वाचनालयों में अल्मारियों और फर्नीचरों आदि की व्यवस्था की गई है और पुस्तकों की रख-रखाव भी सुचारु रूप से की जाती है। इस वर्ष के दौरान कर्मचारियों की रूचि को ध्यान में रखते हुए अधिकाधिक हिंदी पत्र-पत्रिकाएं भी खरीदी गई हैं ।

5.6हिंदी पत्रिकाओं का प्रकाशन:- हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए इस वर्ष के दौरान प्रधान कार्यालय, मंडलों एवं कारखानों के द्वारा निम्नलिखित त्रैमासिक हिंदी पत्रिकाओं का प्रकाशन किया गया है: -

क्रम सं.

कार्यालय का नाम

प्रकाशित पत्रिका का नाम

1

प्रधान कार्यालय

अभिव्यक्ति, हुब्बल्लि नगर राजभाषा

2

हुब्बल्लि मंडल

प्रतिबिंब

3

बेगलुरू

मंडल सुरभि

4

मैसूरु मंडल

रोशनी

5

मैसूरु कारखाना

कावेरी

6.

बेगलुरू छावनी

दीपशिखा

5.7हिंदी कार्यशालाओं का आयोजन:-हिंदी में दैनिक कामकाज करने में अधिकारियों / कर्मचारियों को हो रही झिझक दूर करने के लिए तथा उन्हें राजभाषा में काम करने के लिए मदद करने हिंदी कार्यशालाओं का आयोजन किया गया तथा अधिकारियों एवं कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया ।

5.8तकनीकी संगोष्ठी:-तकनीकी विषयों पर राजभाषा में तकनीकी संगोष्ठी देने से संबंधित रेलवे बोर्ड के आदेशों के अनुपालन के लिए प्रधान कार्यालय तकनीकी संगोष्ठी आयोजित की गई।

5.9हिंदी दिवस / सप्ताह / पखवाड़ा का आयोजन :

हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में प्रधान कार्यालय, हुब्बल्लि में दिनांक 14.09.2021 से 22.09.2021 तक विभिन्न प्रतियोगिताओं और कार्यक्रमों के साथ हिंदी सप्ताह का आयोजन किया गया।

5.10दक्षिण पश्चिम रेलवेके विभिन्न स्टेशनों पर सुप्रसिद्धसाहित्यकार जयंती का आयोजन किया गया।

5.11क्षेत्रीय स्तर पर प्रतियोगितांओं का आयोजन :

  1. दिनांक 26 अक्तुबर 2021 को राजभाषा विभाग, प्रधान कार्यालय में क्षेत्रीय स्तर पर अखिल रेल निबंध, वाक् तथा टिप्पण एवं प्रारूप लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

2.हुब्बल्लि नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति के तत्वावधान में हुब्बल्लि नगर के सदस्य कार्यालयों के कर्मचारियों के लिए दिनांक28.10.2021 को नोटिंग एवं प्रारूप लेखन प्रतियोगिताका आयोजन किया गया।

5.14हुब्बल्लि नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठकों का आयोजन:- राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय द्वारा स्थापित हुब्बल्लि नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति का संचालन भी राजभाषा विभाग द्वारा किया जाता है। गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग द्वारा महाप्रबंधक / दपरे को इस समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। मुख्य राजभाषा अधिकारी /दपरे इस समिति के उपाध्क्ष एवं राजभाषा अधिकारी / प्रधान कार्यालय इस समिति के सदस्य सचिव के रूप में कार्य करती हैं।

6.राजभाषा संबंधी निरीक्षण:-दक्षिण पश्चिम रेलवे के गठन के काल से ही राजभाषा विभाग, केंद्र सरकार की राजभाषा नीति के सुचारु कार्यान्वयन की दिशा में सक्रिय रहा है। राजभाषा संवर्ग के अधिकारी नियमित रूप से स्टेशनों तथा अन्य कार्यालयों का निरीक्षण करते हैं और इस संबंध में पाई गई कमियों को दूर करने हेतु संबंधित अधिकारियों को उचित सलाह देते हैं। इसके अलावा रेलवे बोर्ड के स्थायी आदेशानुसार दक्षिण पश्चिम रेलवे के अन्य अधिकारी भी अपने सामान्य विभागीय निरीक्षणों के दौरान राजभाषा की प्रगति का भी निरीक्षण करते हैं।




Source : दक्षिण पश्चिम रेलवे CMS Team Last Reviewed : 28-02-2022  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.